Regional

मतदान के बाद सपा प्रत्याशी ने महाकालेश्वर से उज्जैन में लगाई गुहार तो रालोद प्रत्याशी ने माँ पीतांबरा से लगाई मनुहार

बागपत, 22 मई 2024  (यूटीएन)। इन दिनों नेताओं को जन समस्याओं के समाधान की फिक्र तो बिल्कुल भी नहीं है, लेकिन फिक्र है तो चुनाव के परिणाम अपने अनुकूल आने की। रालोद प्रत्याशी हों चाहे सपा प्रत्याशी या फिर अन्य, सभी देवी देवताओं के दर्शन व पूजा पाठ में लगे हैं तथा जीत का वरदान मांगने और सुनने को बेताब नजर आ रहे हैं।    लोकसभा के लिए बागपत से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अमरपाल शर्मा ने मतदान होने के दो तीन बाद ही भोले बाबा की नगरी उज्जैन में जाकर महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन किए तथा घंटों पूजा अर्चना की। बता दें कि, सपा प्रत्याशी अमर पाल शर्मा शिव के ऐसे भक्त हैं, जो मानते हैं कि, उन्हें जो दिया भोले बाबा ने ही दिया, इसलिए त्वदीय वस्तु गोविन्द तुभ्यमेव समर्पये का भाव लिए शिवभक्तों के लिए अमरनाथ यात्रा के दौरान तथा कांवड़ यात्रा के दौरान भी खुले दिल से भंडारा लगाते हैं।   उनका कहना है कि, शिव ने दिया है और आगे भी शिव ही देंगे, यही कारण है कि, पार्टी ने टिकट दिया तो जनता ने प्यार और वोट। शिव की कृपा से स्वयं को संतुष्ट और अनुकूल चुनाव परिणाम से आश्वस्त भी हैं।    इसी तरह रालोद प्रत्याशी डा राजकुमार सांगवान ऐसी सिद्धपीठ को नमन करने पहुंचे, जो पीतांबर माँ की सिद्धपीठ कही जाती है तथा जिसके दर्शन और अपनी राजनीतिक पारी से संबंधित मनोकामना लिए पं जवाहरलाल नेहरू, अटल बिहारी वाजपेयी, विजयराजे सिंधिया से लेकर  बहुत सी छोटी बड़ी हस्ती व बालीवुड के अभिनेता व कभिनेत्रियां आती रही हैं।    बताया तो यहाँ तक जाता है कि, माँ पीतांबरा दिन में तीन बार रूप बदलती है तथा भक्तों की हर मनोकामना भी पूरी करती है। समझा जाता है कि,चुनावी आस लिए रालोद प्रत्याशी डा राजकुमार सांगवान ने भी माँ के दर्शन कर दर्शन, नमन व पूजा पाठ किया।   सूचना तो यह भी है कि, मतगणना की 4 जून जैसे जैसे निकट आ रही है, वैसे वैसे प्रत्याशियों द्वारा धर्म कर्म के दूसरे माध्यमों के पंडितों व ज्योतिषियों से भी संपर्क साधा जा रहा है तथा उनके बताए नियम उपनियम के अनुसार जीवन शैली और पूजा पाठ भी शुरू कर दिया गया है।   स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |    

Ujjwal Times News

May 22, 2024

रिवर पार्क जैन मंदिर बागपत ने निकाली श्री जी की भव्य रथयात्रा

बागपत, 16 मई 2024  (यूटीएन)। श्री 1008 चिंतामणि पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर, जैन नगर रिवर पार्क में मंदिर के छठे स्थापना दिवस के अवसर पर श्री जी की भव्य रथयात्रा गाजे-बाजे के साथ धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ निकाली गई। सर्वप्रथम सुबह के समय श्री जी का विधि-विधान व मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक व पूजन किया गया। तत्पश्चात श्री जी की प्रतिमा को रथ में विराजमान कर गाजे- बाजे के साथ रथयात्रा निकाली गई, जिसमें जैन धर्मावलंबियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।   कीर्तन मंडली द्वारा श्री जी के एक से बढ़कर एक भजन सुनाए जा रहे थे और श्रद्धालु भगवान जी की रथयात्रा के आगे मधुर भजनों पर नाचते-गाते हुए चल रहे थे। रथयात्रा के पांडुकशिला पहुंचने पर श्री जी की विधि-विधान के साथ पूजा अर्चना की गई। पूरा वातावरण श्री जी के जय-जयकारो से गूंज उठा। उसके बाद रथयात्रा पुनः मंदिर पर आकर समाप्त हुई। रथयात्रा के शुभारंभ से पहले प्रथम मानस्तम्भ अभिषेक हेतू लक्की ड्रा निकाला गया।   जिसमें श्री जी खवासी का लक्की ड्रा अमित जैन - मिलन फोटो स्टूडियो बागपत, सारथी का लक्की ड्रा संजीव कुमार जैन राजीव कुमार जैन बागपत, कुबेर का लक्की ड्रा सुनील जैन सुशील जैन सरुरपुर, चंवर का लक्की ड्रा राजबाला जैन अमीनगर सराय, दूसरे चंवर का लक्की ड्रा पीयूष जैन बागपत, मानस्तम्भ के अभिषेक हेतू पूर्व दिशा का लक्की ड्रा सुशील जैन बड़ौत वाले, दक्षिण दिशा का लक्की ड्रा सचिन जैन विकास जैन बागपत,पश्चिम दिशा का लक्की ड्रा शलभ जैन   बागपत तथा उत्तर दिशा का लक्की ड्रा भारती जैन राजा जैन बागपत के नाम निकला। इस अवसर पर मंदिर समिति के अध्यक्ष नगेन्द्र जैन गोयल, परम संरक्षक शिखर चंद जैन, महामंत्री ईश्वर जैन, कोषाध्यक्ष अनिल जैन, राहुल जैन, प्रवीण मलिक, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार विपुल जैन बागपत, प्रदीप जैन, रवि जैन, वासु जैन, पारस जैन, पूनम जैन, बबीता जैन, नीलम जैन, संतोष जैन, दीपिका जैन, सचिन जैन, गौरव जैन सहित सैंकड़ों श्रद्धालुगण उपस्थित थे।    बागपत-रिपोर्टर, (विवेक जैन)।    

admin

May 16, 2024

रामचरितमानस बनी विश्व धरोहर, यूनेस्को ने दी मान्यता

नई दिल्ली, 15 मई 2024  (यूटीएन)। राम चरित मानस, पंचतंत्र और सहृदयलोक-लोकन को ‘यूनेस्को के मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर’ में शामिल किया गया है। यह समावेशन भारत के लिए एक गौरव का क्षण है, जिससे देश की समृद्ध साहित्यिक विरासत और सांस्कृतिक विरासत की पुष्टि होती है।   यह वैश्विक सांस्कृतिक संरक्षण की दिशा में हो रहे प्रयासों में एक कदम आगे बढ़ने का प्रतीक है, जो हमारी साझा मानवता को आकार देने वाली विविध कथाओं और कलात्मक अभिव्यक्तियों को पहचानने और सुरक्षित रखने के महत्व पर प्रकाश डालता है। इन साहित्यिक उत्कृष्ट कृतियों का सम्मान करके, समाज न केवल उनके रचनाकारों की रचनात्मक प्रतिभा को श्रद्धांजलि देता है, बल्कि यह भी सुनिश्चित करता है कि उनका गहन ज्ञान और कालातीत शिक्षाएं भावी पीढ़ियों को प्रेरित करती रहें और उनकी जानकारियां बढ़ाती रहें।   *इन्हें मिली मान्यता* ‘रामचरितमानस’, ‘पंचतंत्र’ और ‘सहृदयालोक-लोकन’ ऐसी कालजयी रचनाएं हैं जिन्होंने भारतीय साहित्य और संस्कृति को गहराई से प्रभावित किया है, देश के नैतिक ताने-बाने और कलात्मक अभिव्यक्तियों को आकार दिया है। इन साहित्यिक कृतियों ने समय और स्थान से परे जाकर भारत के भीतर और बाहर दोनों जगह पाठकों और कलाकारों पर एक अमिट छाप छोड़ी है। उल्लेखनीय है कि ‘सहृदयालोक-लोकन’, ‘पंचतंत्र’ और ‘रामचरितमानस’ की रचना क्रमशः पं. आचार्य आनंदवर्धन, विष्णु शर्मा और गोस्वामी तुलसीदास ने की थी।   इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) ने मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड कमेटी फॉर एशिया एंड द पैसिफिक (एमओडब्ल्यूसीएपी) की 10वीं बैठक के दौरान एक ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उलानबटार में हुई इस सभा में, सदस्य देशों के 38 प्रतिनिधि, 40 पर्यवेक्षकों और नामांकित व्यक्तियों के साथ एकत्र हुए। तीन भारतीय नामांकनों की वकालत करते हुए, आईजीएनसीए ने ‘यूनेस्को की मेमोरी ऑफ द वर्ल्ड एशिया-पैसिफिक रीजनल रजिस्टर’ में उनका स्थान सुनिश्चित किया।   *प्रोफेसर रमेश चंद्र गौड़ ने किया प्रस्तुत* आईजीएनसीए में कला निधि प्रभाग के डीन (प्रशासन) और विभाग प्रमुख प्रोफेसर रमेश चंद्र गौड़ ने भारत से इन तीन प्रविष्टियों- राम चरित मानस, पंचतंत्र और सहृदयालोक-लोकन को सफलतापूर्वक प्रस्तुत किया। प्रो. गौर ने उलानबटार सम्मेलन में नामांकनों का प्रभावी ढंग से समर्थन किया। यह उपलब्धि भारत की सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने और बढ़ावा देने के लिए आईजीएनसीए के समर्पण को प्रदर्शित करती है, साथ ही, वैश्विक सांस्कृतिक संरक्षण और भारत की साहित्यिक विरासत की उन्नति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करती है। ऐसा पहली बार हुआ है जब आईजीएनसीए ने 2008 में अपनी स्थापना के बाद से क्षेत्रीय रजिस्टर में नामांकन जमा किया है।   गहन विचार-विमर्श से गुजरने और रजिस्टर उपसमिति (आरएससी) से सिफारिशें प्राप्त करने और बाद में सदस्य देशों के प्रतिनिधियों द्वारा मतदान के बाद, सभी तीन नामांकनों को शामिल किया गया, जिससे 2008 में रजिस्टर की स्थापना से पहले की महत्वपूर्ण भारतीय प्रविष्टियों को चिह्नित किया गया।   विशेष संवाददाता, (प्रदीप जैन) |

admin

May 15, 2024

चौ अजित सिंह की बुलंद आवाज़ और कलम ने हमेशा किसान, कमेरों और मजदूरों का भला किया: रामपाल धामा

बागपत,07 मई 2024  (यूटीएन)। किसानों की बुलंद आवाज तथा राष्ट्रीय लोकदल के संस्थापक पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व चौ अजित सिंह की पुण्यतिथि पर रालोद कार्यालय पर हवन पूजा कर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया।   जीवन पर्यंत किसानों के हितचिंतक व नीति निर्माण में अग्रणी रहे स्व चौ अजित सिंह की पुण्यतिथि पर आयोजित हवन में सैकड़ों अनुयायियों ने आहुतियां दी तथा उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस दौरान विचार गोष्ठी में वक्ताओं ने स्व चौ अजित सिंह द्वारा किए गए किसान हित के लिए किए गए कार्यों को गिनाया।    विधायक डा अजय कुमार ने कहा कि,  चौधरी अजित सिंह सादा जीवन व हंसमुख स्वभाव के धनी थे । उन्होंने किसानो की बेहतरी के लिये अनगिनत काम किये ,साथ ही भाईचारा बढ़ाने में उनका अतुलनीय योगदान रहा। रालोद जिलाध्यक्ष रामपाल धामा ने कहा कि, चौ अजीत सिंह जी की कलम में जब भी ताकत आई, तो उन्होंने किसान, कमेरो व मजदूरो के लिए कलम चलाई।इस अवसर पर सुखवीर सिह गठीना  डा अजय तोमर ने भी विचार व्यक्त किये ।   कार्यक्रम में जिला पंचायत सदस्य सुभाष गुर्जर प्रमुख, राहुल धामा  कुलदीप उज्ज्वल राजू तोमर सिरसली सतेन्द्र मलिक विश्वास चौधरी विकास बाछौड श्रीकान्त धामा सन्तरा देवी ओमवीर तोमर कुलवीर राठी अमित जैन ओमवीर ढाका नरेश त्यागी विनोद सिंह नीरज पंडित शकील अहमद  अजहर खान सुभाष नैन सत्यवीर ऋषिपाल ठेकेदार सचिन पंडित आदि मौजूद रहे।   स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |

Ujjwal Times News

May 7, 2024

आयु: प्राणं प्रजां पशुं कीर्तिम् द्रविणं मह्यम् दत्वा की भावना के साथ किये यज्ञ से सद्कर्म में प्रवृत्ति : आ कपिल

दोघट,03 मई 2024  (यूटीएन)।  चौगामा क्षेत्र के गाँव भड़ल में पं देवेन्द्र आर्य के संयोजन में अंतर्राष्ट्रीय यज्ञ दिवस पर विशाल यज्ञ का आयोजन किया गया। यज्ञाचार्य कपिल शास्त्री द्वारा यज्ञ से होने वाले लाभों को बताया गया । अंतर्राष्ट्रीय यज्ञ दिवस पर आयोजित यज्ञ व प्रवचन के दौरान बताया गया कि,जो मनुष्य अग्निहोत्र यज्ञ करते हैं वे सब दोषों से दूर हो जाते हैं, क्योंकि यज्ञ की समिधा, सामग्री व सिद्धमंत्रों की गौरवशाली उपलब्धियों का  इतिहास रहा हैं। यदि कहें कि ,जब से सृष्टि का निर्माण हुआ है, तब से यज्ञ का प्रचलन है, क्योंकि चारों वेदों में यज्ञ की महिमा व यज्ञ करने का आदेश दिया गया हैं । बताया कि, यज्ञ के विषय मे वेदभगवान कहते है -क्रतुर्भव, अर्थात् यज्ञ करने वाला बन। इस मौके पर बताया गया कि, जहां पर अनेक प्रकार की औषधियों द्वारा यज्ञ किया जाता है ,वहां का पर्यावरण हमेशा शुद्ध व पवित्र बना रहता है ।कार्यक्रम के दौरान भजनोपदेशक गोपाल ने सुंदर भजन सुनाये। समारोह में योगेंद्र आर्य ,गुरमीत आर्य,चंद्रकांत आर्य, नीरज ,मोहित कुमार,ऋचा आर्या, सगुन ,अथर्व आर्य,ज्योति आर्या,कोमल आदि उपस्थित रहे।  स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |

Ujjwal Times News

May 3, 2024

संचारी में खराब स्थिति वाले विभागों को जिलाधिकारी ने किया सचेत, 7 मई तक चलेगा अभियान

बागपत,01 मई 2024  (यूटीएन)। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने आज विकास भवन सभागार में विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान के प्रथम चरण में संबंधित विभागों द्वारा संचालित गतिविधियों व कियाकलापों की अन्तर्विभागीय समीक्षा बैठक में आवश्यक दिशा निर्देश दिए और कहा, उक्त अभियान में जिन संबंधित विभागों की स्थिति खराब है  वे 7 मई तक आवश्यक सुधार कर लें । उन्होंने कहा, संचारी अभियान के तहत गांव में मच्छर ना हो, फॉगिंग कराई जाए व एंटी लारवा छिड़काव किया जाए। पानी का जमाव नहीं होना चाहिए व‌ नालियों की साफ सफाई हो गंदगी ना दिखाई दे।   बताया कि  ग्रीष्म ऋतु में भीषण गर्मी, लू व हीट वेव के कारण जनता को स्वास्थ्य जनित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आवश्यक है कि इनसे बचते हुए अधिकाधिक संख्या में क्या करें क्या न करें,यह जानकारी हो। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि, लू के लक्षण से चक्कर आना, बेहोश हो जाना ,स्किन का रफ होना, प्यास ज्यादा लगना, बीपी कम हो जाना आदि है। बचाव के लिए हल्के सूती वस्त्रों का प्रयोग करें एव अपने साथ तेज धूप से बचाव हेतु छाता एवं सर को ढकने के लिए सफेद सूती गमछा या अन्य कोई कपड़ा रखें। पैरों में आरामदायक जूते या चप्पल पहनें। अपने साथ पीने योग्य शीतल जल का बोतल रखें, समय-समय पर आवश्यकतानुसार सादा जल, नींबू पानी या ओआरएस का प्रयोग कर अपने आपको तरो ताजा रखें।    तेज धूप से बचने हेतु अन्य सुरक्षा के उपाय जैसे टोपी, हैट, काला चश्मा, छाता आदि का प्रयोग करें। अत्यधिक चाय, कॉफी या कार्बोनेटेड सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन न करें, इनसे शरीर में पानी की मात्रा कम होने की संभावना रहती है। बासी भोजन से बचें, हल्के एवं ताजे बने भोजन लें।   जिलाधिकारी ने कहा, पानी ज्यादा से ज्यादा पीएं। उन्होंने जल निगम को और पंचायत राज विभाग को निर्देश दिए कि, स्कूलों में जो हेंडपंप खराब हैं वे तत्काल ठीक हो जाएं। प्रत्येक स्कूल में ओआरएस के पैकेट अवश्य रखे होने चाहिएं।    उन्होंने समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व जिला अस्पताल को निर्देशित किया कि, कोल्ड रूम बनाए जाएं। जिला अस्पताल में 10 बेड ,कोल्ड रूम में आरक्षित किए जाएं और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर चार-चार बैड कोल्ड रूम में आरक्षित किए जाएं तथा इन सभी पर ओआरएस जिंक कॉर्नर भी बनाए जाएं।   इस अवसर पर सीडीओ नीरज कुमार श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ महावीर सिंह, सीएमओ डॉ एसके चौधरी,जिला विकास अधिकारी हरेंद्र सिंह समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक ,पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट डॉ सुरुचि शर्मा सहित मलेरिया विभाग के अधिकारी भी उपस्थित रहे।   स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |

Ujjwal Times News

May 1, 2024

माँ व पत्नी का कत्ल करने वाले दरिंदे को आत्महत्या के प्रयास से पूर्व ही पुलिस ने किया गिरफ्तार

बागपत,01 मई 2024  (यूटीएन)। दिल्ली पुलिस के रिटायर्ड दरोगा व वेट लिफ्टर रहे जनपद के हलालपुर गाँव निवासी जितेंद्र के छोटे बेटे ने किया रिश्तों का कत्ल। अपनी माँ और गर्भवती पत्नी की धारदार हथियार से की हत्या। पुलिस को देखकर भागने, छुपने और आत्महत्या का प्रयास भी किया, लेकिन पुलिस की तत्परता से पकड लिया गया।    आज हुई इस हृदयविदारक घटना के समय दरोगा अपनी पेंशन के संबंध मे दिल्ली गया था तथा छोटे बेटे मनीष ने अपनी माँ सरोज और पत्नी की धारदार हथियार से हत्या कर दी। अलग अलग कमरों मे उनके खून से लथपथ शवों को देख हर किसी की रूह कांप उठी।    सूचना पर जिले के पुलिस कप्तान सहित भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा तथा ग्रामीणों की भीड, घटना स्थल पर जुटी रही। पुलिस ने घटना के संबंध में शुरुआती जांच के बाद छोटे बेटे मनीष को हिरासत मे लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।    बताया गया है कि, मनीष, पुलिस को देखकर छुपने व भागने की कोशिश कर रहा था। उसने बाथरूम में जाकर अपने शरीर पर ब्लेड भी चलाया, लेकिन गंभीर रूप से कट होने से पहले ही पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया तथा उपचार कराया।   स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |

Ujjwal Times News

May 1, 2024

10 मई तक तहसीलों में विरासत में नाम दर्ज कराने के लिए जिलाधिकारी ने चलाया विशेष अभियान

बागपत,01 मई 2024  (यूटीएन)। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह के निर्देशन में अब तहसीलों में 1 मई से 10 मई तक विरासत खतौनी दर्ज अभियान कार्यक्रम चलाया जाएगा । जिनकी विरासत खतौनी में दर्ज नहीं हुई है उनके नाम दर्ज कराए जाने के लिए यह विशेष अभियान शुरू किया जा रहा है। जिलाधिकारी द्वारा 10 मई के बाद अभियान की समीक्षा भी की जाएगी।    अभियान के तहत जिलाधिकारी ने समस्त तहसीलदार, एसडीएम को यह भी निर्देश दिए हैं कि ,जिन तहसीलों में कोई मामला दर्ज नहीं है ,इसकी सूचना भी भरेंगे तथा जिन गांवों में विरासत का प्रकरण शून्य होगा, ऐसे गांव का 10 मई से 14 मई के मध्य तहसीलदार, एसडीएम प्रत्येक पांच-पांच गांव का सत्यापन करेंगे। इसी क्रम में नायब तहसीलदार 10 गांव का सत्यापन करेंगे  और कानूनगो अपने संपूर्ण क्षेत्र का सत्यापन करेंगे। इसके बाद 15 मई को जितने गांव दर्ज किए गए होंगे, जिलाधिकारी संबंधित राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक करेंगे।   इस संबंध में जिलाधिकारी ने राजस्व विभाग की टीम को सख्त निर्देश दिए हैं कि ,निर्विवाद स्थिति में मृतक के परिजन का नाम खतौनी में 10 दिन के अंदर दर्ज हो जाना चाहिए, जिससे कि किसी को खतौनी का नाम चढ़ाए जाने के लिए परेशान नहीं होना पड़े। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि, लेखपाल गांव में पैनी नजर बनाए रखें ,जिसका जो मामला है, उसे त्वरित गति से नियम संगत दर्ज करें ,जिससे आम जनमानस को समस्या ना हो और तहसील के अधिकारी अच्छा सुपरविजन करते रहें।   स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |

Ujjwal Times News

May 1, 2024

पुत्र को झूठे मुकदमे में फंसाने का आरोप ,महिला ने एसपी से की निष्पक्ष जांच कराने की मांग

खेकड़ा,01 मई 2024  (यूटीएन)। थाना चांदी नगर के केहरका गांव की महिला ने अपने पुत्र को गांव की राजनीति के तहत नाबालिग लड़की के अपहरण के मामले में झूठा फंसाए जाने का आरोप लगाया है। इस मामले में उसने पुलिस अधीक्षक से निष्पक्ष जांच करवाने और उसके पुत्र को न्याय दिलवाने की मांग की है।   महिला का कहना है कि, गांव की एक नाबालिग लड़की के पड़ोसी युवक के साथ प्रेम संबंध बने हुए थे। दोनों शादी  करना चाहते थे। लड़की शादी की जिद पर अड़ी हुई थी ,लेकिन लड़की के परिजन शादी करने को तैयार नहीं हुए, इसलिए वह प्रेमी युवक के साथ गांव से फरार हो गई। लड़की की मां ने चांदी नगर थाने में पुत्री के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी तथा आरोप कहा था कि, उसकी पुत्री नाबालिग है। आरोपी युवक उसे बहका फुसला कर भगा ले गया है। गांव के ही एक युवक ने उसे सहयोग किया है।    उधर आरोपी युवक की मां का कहना है कि, उसका पुत्र सीधा-साधा है। उसका इस मामले से कोई लेना देना नही है। उसके पुत्र को गांव की राजनीति के तहत फंसाया गया है। थाना प्रभारी राजेन्द्र सिंह का कहना है, कि मामले की निष्पक्ष जांच कर कार्रवाई की जाएगी।   स्टेट ब्यूरो,( डॉ योगेश कौशिक ) |

Ujjwal Times News

May 1, 2024

Soniya Bansal’s Inspiring Video Sparks Kindness and Awareness

Mumbai, 01 May 2024 (UTN). In a world where negativity often dominates the headlines, a simple act of kindness captured on video has touched the hearts of many. Soniya Bansal, a social media influencer, recently shared a heartwarming video on her story that showcased the power of compassion and generosity.   The video captured a moment where a man was seen helping an elderly gentleman, a gesture that warmed the hearts of those who witnessed it. Moved by the display of kindness, Soniya felt compelled to share the video, using her platform to spread a message of positivity and awareness.   “We need more people like this,” Soniya expressed in her caption, highlighting the importance of such acts in fostering a more compassionate society. By sharing the video, she hoped to inspire others to follow suit and make a difference in their communities.   Soniya’s actions didn’t go unnoticed, as her post quickly gained traction and garnered widespread attention. People from all walks of life praised the man’s selfless act and applauded Soniya for shedding light on the significance of kindness.   In a world filled with division and strife, moments like these serve as a reminder that there is still goodness to be found. Through her simple yet powerful gesture, Soniya Bansal has sparked a wave of kindness and awareness, leaving a lasting impact on all who encountered her message.   As the video continues to circulate on social media, it serves as a beacon of hope, inspiring others to look for opportunities to spread kindness and make a difference in the lives of those around them. Soniya’s actions remind us all that a single act of kindness has the power to ripple outwards, creating positive change in the world.   Mumbai-Reporter,( Hitesh Jain ).

Ujjwal Times News

May 1, 2024