तमिलनाडु चुनाव से पहले रजनीकांत को दादा साहब फाल्के पुरस्कार दिए जाने की घोषणा

तमिलनाडु चुनाव से पहले रजनीकांत को दादा साहब फाल्के पुरस्कार दिए जाने की घोषणा

नई दिल्ली, 02 अप्रैल 2021 (यू.टी.एन.)। सुपरस्टार रजनीकांत को 51वें दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि अभिनेता, पटकथा लेखक और निर्माता के रूप में उनका योगदान प्रतिष्ठित है। दादासाहेब फाल्के पुरस्कार का प्रबंधन फिल्म उत्सव निदेशालय द्वारा किया जाता है, जो सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा स्थापित एक संगठन है। सिनेमा में लोगों के लिए यह पुरस्कार सबसे प्रतिष्ठित माना जाता है। रजनीकांत आखिरी बार 2020 तमिल एक्शन-थ्रिलर फिल्म दरबार में दिखाई दिए।अभिनेता 4 दशकों से अधिक समय तक फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा रहे है और जनता के बीच अपार लोकप्रियता प्राप्त की है। 

हिंदी में एक ट्वीट में  प्रकाश जावड़ेकर  ने कहा कि 5-सदस्यीय जूरी ने सर्वसम्मति से रजनीकांत के नाम की सिफारिश की। भारतीय सिनेमा के इतिहास के सबसे महान अभिनेताओं में से एक रजनीकांत को 2020 के लिए  दादासाहेब फाल्के पुरस्कार देने की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। अभिनेता, निर्माता और पटकथा लेखक के रूप में उनका योगदान प्रतिष्ठित रहा है।

आपको बता दें कि ये घोषणा तमिलनाडु चुनाव से पहले  की गयी है। राज्य में 6 अप्रैल को एक नई विधानसभा के लिए चुनाव होने वाले हैं। रजनीकांत ने पहले घोषणा की थी कि वह जनवरी 2021 में अपनी राजनीतिक पार्टी के साथ विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। हालांकि, रक्तचाप में उतार-चढ़ाव के कारण अस्पताल में भर्ती होने के बाद, अभिनेता ने घोषणा की कि राजनीति में नहीं आएंगे। उन्होंने अपने फैसले के पीछे COVID-19 महामारी और उनकी स्वास्थ्य स्थिति का हवाला दिया। अब चुनाव से पहले मोदी सरकार की तरफ से दादासाहेब फाल्के पुरस्कार दिए जाने की घोषणा के बाद राजनीतिक हलचल भी तेज हो गयी है। चुनाव से पहले की घोषणा से कई तरह के राजनीतिक सवाल भी उठ रहें हैं।