आईआईएचएमआर ने मनाया 37वां स्थापना दिवस आईआईएचएमआर फाउंडेशन की स्थापना करने का एलान

आईआईएचएमआर ने मनाया 37वां स्थापना दिवस  आईआईएचएमआर फाउंडेशन की स्थापना करने का एलान
जयपुर,05 अक्टूबर 2021 (यू.टी.एन.)। डियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मैनेजमेंट रिसर्च (आईआईएचएमआर) ने आज अपना 37वां स्थापना दिवस हाइब्रिड मोड में मनाया। संस्थान की स्थापना 1984 में की गई थी और आज स्वास्थ्य देखभाल संबंधी क्षेत्र में इसकी गिनती चोटी के संस्थानों में होती है। 37वें स्थापना दिवस के अवसर पर आईआईएचएमआर फाउंडेशन की स्थापना का एलान भी किया गया।
आईआईएचएमआर विश्वविद्यालय के प्रेसिडेंट ड. पी आर सोडानी ने इस प्रमुख संस्थान के 37 वर्ष पूरे होने और अब तक की सफल यात्रा पर सभी छात्रों, पूर्व छात्रों, शिक्षकों और स्टाफ सदस्यों का स्वागत किया और उन्हें बधाई दी। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने की दिशा में संस्थान अपने छात्रों और पूर्व छात्रों के योगदान के कारण जाना जाता है।
ड. सोडानी ने संस्थान के विकास और कामकाज की दिशा में निरंतर समर्थन के लिए प्रबंधन बोर्ड, अकादमिक परिषद और अध्ययन बोर्ड के सदस्यों का भी आभार व्यक्त किया। साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य क्षेत्र में पूर्व छात्रों द्वारा किए गए योगदान पर भी प्रकाश डाला। ड सोडानी ने यह भी जानकारी दी कि एस डी गुप्ता स्कूल अफ पब्लिक हेल्थ ने 5 अक्टूबर 2021 को स्थापना का एक वर्ष पूरा कर लिया है। एस डी गुप्ता स्कूल अफ पब्लिक हेल्थ की घोषणा पिछले साल आईआईएचएमआर के 36 वें स्थापना दिवस पर की गई थी। यह स्कूल विश्व स्तर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य शिक्षा और अनुसंधान को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान करने वाले ड. एस डी गुप्ता को समर्पित है। 
37वें स्थापना दिवस के दौरान आईआईएचएमआर के अब तक के सफर को दर्शाने वाले कुछ ऐतिहासिक पल और संस्थान की अन्य महत्वपूर्ण उपलब्धियों से संबंधित जानकारी को डिजिटल रूप से प्रदर्शित किया गया।
स्थापना दिवस के अवसर पर ड एस डी गुप्ता, ट्रस्टी-सचिव, आईआईएचएमआर ने एस.डी. गुप्ता स्कूल अफ पब्लिक हेल्थ एंड सेंटर फर इनोवेशन इनक्यूबेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप की सालाना रिपोर्ट पेश की। रिपोर्ट जारी करते हुए ड गुप्ता ने कहा, ‘‘आईआईएचएमआर का विकास इसके संकाय सदस्यों, कर्मचारियों और छात्रों द्वारा किए गए गुणवत्तापूर्ण कार्यों और उनकी कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता के कारण संभव हो पाया है।’’ उन्होंने संस्थान की अब तक की यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि इन 37 वर्षों में अपने विश्व स्तरीय कार्यक्रमों, व्यापक शोध और प्रकाशनों के साथ संस्थान ने नए कीर्तिमान कायम किए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमने उच्च शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में जबरदस्त प्रगति की है जो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आईआईएचएमआर के ब्रांड नाम में परिलक्षित होता है।’’ ड गुप्ता ने सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में लोगों को अग्रणी बनाने और स्वास्थ्य सेवा में उद्यमियों को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत भी बताई।
इस अवसर पर आईआईएचएमआर फाउंडेशन के संस्थापक निदेशक श्री अयान अग्रवाल ने आईआईएचएमआर फाउंडेशन की स्थापना की घोषणा की। श्री अग्रवाल ने कहा, ‘‘आईआईएचएमआर फाउंडेशन एक गैर-लाभकारी संगठन होगा, जिसे बड़े पैमाने पर समाज और समुदाय की सेवा करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया है। फाउंडेशन समावेशी और स्वस्थ भारत के अपने ष्टिकोण में महत्वपूर्ण योगदान देगा। अपनी व्यावसायिक गतिविधियों से आगे बढ़ते हुए आईआईएचएमआर फाउंडेशन विविध सामुदायिक जुड़ाव पहलों के माध्यम से समाज में एक सकारात्मक प्रभाव कायम करने में योगदान देगा।
उन्होंने कहा, ‘‘हम आईआईएचएमआर फाउंडेशन में स्वास्थ्य और इससे संबंधित स्टार्टअप को सपोर्ट प्रदान करेंगे, साथ ही संकाय सदस्यों और छात्रों के नवाचार संबंधी प्रयासों को प्रोत्साहित करेंगे। इसके साथ-साथ हम पारस्परिक लाभ के लिए उद्योग के साथ एक प्रभावी इंटरफेस के रूप में कार्य करेंगे।’
 जयपुर-रिपोर्टर,(नरेंद्र आर्य) |