सैया भय कोतवाल अब डर काहे का, ड्राइवर साहब नो इंट्री में घुसा दिए थाने की गाड़ी, फिर देनी पड़ी फाइन

सैया भय कोतवाल अब डर काहे का,  ड्राइवर साहब नो इंट्री में घुसा दिए थाने की गाड़ी,  फिर देनी पड़ी फाइन
नालंदा,10 सितंबर 2021 (यू.टी.एन.)। भोजपुरी में एक कहावत है कि सैय्या भइल कोतवाल अब डर काहे का ..... वो भी हो क्यों नहीं जब वह सख्श थाने का वाहन को चला रहा हो तो । शायद वह अपने साहब को छोड़ किसी का सुनता भी न हो । ऐसा ही एक नजारा बिहारशरीफ में उस वक्त दिखा जब एकंगरसराय थाना का वाहन चला रहा ड्राइवर अस्पताल चौक से कलेक्ट्रेट जाने वाले नो एंट्री मार्ग में वाहन घुसा दिया । थाने का वाहन के कारण इस मार्ग पर वाहनों की जाम लग लगनी शुरू हो गयी । नियम तोड़े जाने का किसी ने इस बात की शिकायत वरीय पदाधिकारी को दे दिया । फिर क्या था आए दिन आम लोगों से नियमों की अनदेखी करने पर फाइन वसूलने वाले यातायात प्रभारी दौड़ कर आए और गाड़ी को साइड में लगाने का आदेश दिया । मगर चालक थाने के वाहन का हवाला देते हुए जरूरी काम से जाने की बात कह आगे बढ़ाने लगा । थाने का वाहन और वर्दी वाले का वर्दी वाले कैसे चालान काटे साहब भी सोच में पड़ गए ।
उन्होनें भी फोन लगा वरीय पदाधिकारी को जानकारी दी । बड़े साहब थोड़े कड़क मिजज के हैं। तो उन्होंने नियम तोड़ने पर जुर्माना भरने के बाद ही छोड़ने का आदेश दिया । मजबूरन यातायात प्रभारी को थाने के वाहन का चालान काटनी पड़ी । तब जाकर ड्राइवर गाड़ी लेकर वहां से निकला । फिर जब प्रभारी महोदय वाहन चेकिंग के जगह आए तो आम लोगों के सामने सीना चौड़ा करते हुए माइक पर बोलते नजर आए कोई भी हो नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई अवश्य होगी । फाइन देने के बाद ही उनके वाहनों को छोड़ा जाएगा ।
 नालंदा-स्टेट ब्यूरो,(प्रणय राज) |