ब्रज में है रही जय-जय कार, भानु घर लाली जाई है ब्रज में राधे-राधे की गूंज रावल व बरसाने में जन्मीं बृषभानु श्री राधा दुलारी

ब्रज में है रही जय-जय कार, भानु घर लाली जाई है ब्रज में राधे-राधे की गूंज रावल व बरसाने में जन्मीं बृषभानु श्री  राधा दुलारी

गोवर्धन,14 सितंबर 2021 (यू.टी.एन.)। ब्रज में है रही जय-जयकार, भानु घर लाली जाई है कि अभिव्यक्ति के साथ श्रीजी धाम बरसाना में मंगलावार की भोर बेला में लाली के जन्म के साथ ही श्रद्धालु उमंग व उल्लास में डूबे नजर आए । बरसाना में मंगलवार की भोर बेला में करीब साढ़े चार बजे राधा जी के जन्म का विग्रह अभिषेक हुआ। राधा जी के जन्म से पहले रात्रि कालीन बेला में ब्रह्माचंल पर्वत आनंदरस में डूब गया। चारों ओर बरसाने की संकरी गलियों व ऊंचे ऊंचे पर्वत पर राधे-राधे की गूंज सुनाई दे रही थी। जगह-जगह आयोजित भजन संध्या में लाड़िली जी के जन्म की खुशी में बरसाने बजी बधाई कीरत ने लाली जाई, बंधनवार बंधे महलनन में ऊंचे पर ध्वजा लहराई, ओ मेरी छोटी सी किशोरी प्यारी लागे, बृषभानु दुलारी बड़ी प्यारी लागे........आदि।

भजन की धुन पर श्रद्धालु नृत्य व थिरकन में मस्त नजर आ रहे थे।  श्रद्धालुओं ने राधारानी के जन्मोत्सव के अद्भुत पल के साक्षी बनने के लिए पूरी रात इंतजार किया । जैसे ही भोर बेला हुई और राधाजी प्रकट हुई तो लाखों हाथ ऊपर हो गए और मुंह से बस राधे राधे के स्वर सुनाई दिए। श्रद्धालुओं ने गहवरवन की परिक्रमा लगाई। भक्तों ने मान सरोवर में स्नान किया।  लाडिली जी मंदिर में राधारानी का जन्म के बाद सफेद छतरी के दर्शन हुए। गोकुल के समीप राधारानी के गांव रावल में जन्म उत्सव की धूम रही। गोवर्धन के राधाकुंड में हजारों भक्तों ने घाट पर बैठकर सामूहिक राधाकृपाकटाक्ष का पाठ किया। राधाकुंड श्रीरघुनाथ दास गोस्वामी गद्दी के प्राचीन राधागोपी नाथ मंदिर, राधागोविंद मन्दिर, राधाकालाचांद मन्दिर में अभिषेक किया गया। भक्तों ने राधे राधे के उद्घघोषों के बीच गिरिराज जी की परिक्रमा लगाई।

रिपोटर- मथुरा,(अमित गोस्वामी) |