कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को अभी से तैयारी शुरू करने का दिया निर्देश

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को केंद्र सरकार से कहा कि वह कोरोनावायरस महामारी की तीसरी लहर की तैयारी अभी से शुरू कर दे।

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को अभी से तैयारी शुरू करने का दिया निर्देश
सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को केंद्र सरकार से कहा कि वह कोरोनावायरस महामारी की तीसरी लहर की तैयारी अभी से शुरू कर दे। सर्वोच्च अदालत ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चिंता व्यक्त की और उसको लेकर अभी से तैयारियां करने पर जोर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया है कि अगर बच्चों पर तीसरी लहर में असर होता है, तो आपकी क्या तैयारी है?

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा है कि अभी तीसरी लहर भी आनी बाकी है। 

सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि अगर कल को हालात बिगड़ते हैं और कोरोना के मामले बढ़ते हैं, तो आप क्या करेंगे। रिपोर्ट्स कहती हैं कि तीसरी लहर में बच्चों पर भी प्रभाव पड़ सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि तीसरी लहर में क्या करना चाहिए उसकी तैयारी अभी से करनी होगी, युवाओं का वैक्सीनेशन करना होगा, अगर बच्चों पर असर बढ़ता है तो कैसे संभालेंगे क्योंकि बच्चे तो अस्पताल खुद नहीं जा सकते।

केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने बुधवार को चेतावनी देते हुए कहा कि देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर भी आएगी, लेकिन यह नहीं पता कि यह कब आएगी। यही नहीं उनका कहना था कि कोरोना से निपटने के लिए वैक्सीन्स को भी नए स्ट्रेन के लिहाज से अपडेट किया जाना चाहिए।

विजय राघवन ने कहा कि वायरस के उच्च स्तर के प्रसार को देखते हुए तीसरी लहर आना अनिवार्य है लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह तीसरी लहर कब आएगी और किस स्तर की होगी। उन्होंने कहा कि हमें नई लहरों के लिए तैयार रहना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना की दूसरी लहर इतनी भीषण और लंबी होगी, इसका अनुमान नहीं लगाया गया था।